टिड्डियों का झुण्ड देख किसान हलकान

महराजगंज

विकास खण्ड बृजमनगंज के विभिन्न ग्राम पंचायत में टीद्दीयो का कहर/ फरेंदा/बृजमनगंज ब्लाक क्षेत्र के ग्राम पंचायत कोल्हुई चंदनपुर परासखाड़ बभनी बड़गो धरैची धरैचा खड़खोड़ी सहजनवबाबू समेत दर्जनों गाँवों एवं नौतनवा ब्लाक के बेलभार, रेहरा, महुलानी ,निपनिया ,सेखुआनी आदि गांवों में पाकिस्तानी टिड्डियों के झुण्ड देखे जाने से क्षेत्र के किसानों में दहशत व्याप्त है। अपनी फसलों के बर्बाद हो ने की आशंका को लेकर किसान काफी चिंतित हो गये हैं।
विकास खण्ड नौतनवा के ग्राम पंचायत रेहरा, बेलभार, महुलानी, निपनिया, सेखुआनी आदि गाँव के सीवान में शनिवार की सुबह पाकिस्तानी टिड्डियों को आसमान में उड़ता देखकर क्षेत्र के किसानों के होंश उड गए। शनिवार की सुबह रेहरा निवासी किसान गुफरानुउल्लाह अपने खेत में हुई रोपाई को देखने गये। जब वह खेत में पहुँचे तो देखा कि पाकिस्तानी टिड्डियां धान की फसल को काट रहीं थीं। वहीं खेत के बगल में एक पीपल के पेड़ के पत्तों पर भी पाकिस्तानी टिड्डियों का कहर नजर आया। कुछ टिड्डियों को वह पकड़कर अपने गांव में लाकर लोगों को दिखाया तो देखने वालों की भीड़ लग गया किसान गुफरानुउल्लाह पकड़े हुए सभी टिड्डियो को एक पल्लास्टिक की थैली में लेकर ब्लाक पर स्थित कॄषि विभाग पर पहुंचा लेकिन वहां कोई भी जिम्मेदार नहीं मिला और किसान सभी टिड्डियो को लेकर वापस अपने घर चला गया किसान गुफरानुउल्लाह ने बताया की हम कॄषि विभाग पर इसलिए गये थे कि विभाग के द्वारा हो सकता है की कोई दवा का छिड़काव कर क्षेत्र के किसानों की फसलों को बचाया जा सके लेकिन वहां कोई नहीं मिला। क्षेत्र में टिड्डियो के आने की सूचना पर
कुछ किसान तुरन्त अपना खेत देखने गए। किसान वाजिद अली, समसुद्दीन, अलाऊद्दीन, उमेश पाण्डेय, विश्वनाथ यादव, अखिलेश पाण्डेय , ज्ञानेश्वर, सुभान अली ने बताया कि उनके धान की फसलों को भी टिड्डियों ने नुकशान पहुँचाया है। वही
टिड्डियों को देखकर किसान जयकिशुन यादव, चन्द्रकेश भारती, विजय कुमार, अवधेश यादव, रामसिंह, शिवपूजन वर्मा, श्यामलाल मद्देशिया ने बताया कि अगर पाकिस्तानी टिड्डियों को रोकने की ब्यवस्था नहीं की गयी तो किसानों की फसलें बर्बाद हो जाएंगी।
सबसे दिलचस्प बात यह है कि एक किलो मीटर के दायरे में लगभग 10 मिनट तक टिड्डीयो की समूह लगातार अड्डा बाजार के तरफ से बढ़ते हुए कोल्हुई होते हुए धरैचा खड़खोड़ी से होते हुए पश्चिम की तरफ सिद्धार्थनगर की और बढ़ते हुए किसान देख कर बेहाल हो गये। अगर ये अनगिनत टिड्डियाँ किसी भी क्षेत्र में उतर जाती तो बड़ा ही भयावह हालात पैदा हो जाता। किसानो ने भारत सरकार से माँग की है कि अगर समय रहते कोई उपाय नहीं किये गये तो बड़ी ही भीषण त्रासदी झेलनी पद सकती है।

विकास मद्वेशिया/के साथ विनोद वर्मा कि रिपोर्ट