दो मुल्कों की नफरत के बीच प्रेम की मिसाल बनी दुकान

अंतर्राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश उन्नाव

यह बंद दुकान दीनानाथ की है जो हिंदुस्तान और पाकिस्तान के बँटवारे के वक़्त बहुत अफसोस के साथ यह दुकान छोड़कर हिंदुस्तान चला गया लेकिन जाते वक्त बहुत रोया और गाँव के लोगों को यह दिलासा दिलाया कि मैं वापिस आप लोगों के पास लौट आऊँगा।

 

Fb Img 1593217270675

 

लोरा लाई में मौजूद अभी तक वही ताला लगा है जो दुकानदार जाते वक्त लगाकर चाबी अपने साथ ले गया था।

 

73 साल से यह दुकान बंद पड़ी है। मकान मालिक अब जो इस दुनियाँ में नही रहा , अपने बच्चों से वसीयत की थी कि इस दुकान का ताला तोड़ना नही। मैंने उस दुकानदार को जबान दी है कि यह दुकान तुम्हारे आने तक बन्द रहेगी।

 

मकान मालिक के औलादों ने आज तक उस ताले को हाथ तक नही लगाते।

 

हालाँकि उन्हें मालूम है की दुकानदार इस दुनियाँ में नही रहा लेकिन वफ़ा के यादगार के तौर पर अब तक यह दुकान दो इंसानों के बीच यादगार का अलामत है।

 

यह खबर मकामी और विदेशी मीडिया में बहुत जोरों से वाइरल हो रहा है।

20191219 134710

दिलीप वर्मा

मंडल डिप्टी ब्यूरो चीफ लखनऊ

मानवाधिकार मीडिया