आजकल भारत चीन सीमा विवाद को लेकर चर्चा में है भारत की सबसे ऊँची उड़ान पट्टी दौलत बेग ओल्डी

राष्ट्रीय

मो0 अब्दुल क़य्यूम

लद्दाख़ में मौज़ूद भारत की सबसे ऊंची उड़ान पट्टी “दौलत बेग ओल्डी” आजकल भारत चीन सीमा विवाद को लेकर चर्चा में है। “दौलत बेग ओल्दी” तुर्की भाषा का एक अल्फाज़ है जिसका मतलब होता वह जगह जहां एक महान जंगज़ू की मौत हुई। ये जंगज़ू था सुल्तान सईद खान जिसकी मौत कश्मीर फ़तह कर वापसी के दौरान इसी लद्दाख़ चोटी पर 1533 में हुई थी। जिसके बाद इस चोटी का नाम “दौलत बेग ओल्दी” रखा गया।

मुग़ल बादशाह बाबर की वफ़ात के बाद 1531 में सुल्तान सईद खान ने कश्मीर का रुख किया। 8600 मीटर ऊंची काराकोरम चोटी पर करते हुए बल्टिस्तान पहुचा बल्टिस्तान फ़तह करने के बाद अपने कमांडर मिर्ज़ा हैदर को कश्मीर भेजा और ख़ुद वापसी का रुख किया सन 1533 में वापसी के वक़्त फिर से काराकोरम की ऊंची चोटी को पार करना पड़ा चढाई के दौरान सुल्तान बीमार पड़ गया और वहीं उसकी मौत हो गई। सुल्तान के मौत के बाद उसका कमांडर हैदर मुग़ल बादशाह हुमायूं की सेना में शामिल हो गया।

गुजरे हुए पल