रायबरेली में फिर मिले 3 कोरोना पाजिटिव मरीज, इलाके सील करने की प्रक्रिया शुरू

रायबरेली

-हरचन्दपुर के चौहनिया व खीरों के पाहों व डलमऊ के कुरौली में मुम्बई से आये थे युवक

-तीनो व्यक्ति का स्वास्थ्य परीक्षण में निकले कोरोना पाजिटिव

-इलाज के लिए एल-1 रेयान इंटरनेशनल स्कूल क्वारंटाइन सेन्टर में भेजा गया है। 

-ग्राम प्रधान सहित जिम्मेदारों पर उठ रहे तरह-तरह के सवाल,शहर से गाँव आ रहे प्रवासी श्रमिक नहीं कर रहे होम क्वारेंटाइन का पालन,जिम्मेदार मौन

रायबरेली। जनपद के डलमऊ स्थित कुरौली एक व्यक्ति जो ट्रक क माध्यम से मुम्बई से आया था जिसकी स्वास्थ्य परीक्षण व कोरोना वायरस की जांच के दौरान कोरोना पाजिटिव पाया गया है जिसे इलाज के लिए लखनऊ रिफर किया गया है। हरचन्दपुर के चौहनिया व खीरों के पाहों एक-एक व्यक्ति जो मुम्बई से आये थे दोनो व्यक्ति का स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया जांचोपरान्त कोरोना पाजिटिव पाये जाने पर इलाज के लिए एल-1 रेयान इंटरनेशनल स्कूल क्वारंटाइन सेन्टर में भेजा गया है। इलाज जारी है। इसके साथ रहने वाले 15 लोगों को भी क्वारंटाइन कराया गया है। जनपद में अबतक एक मृत्यु, रिकवर्ड केस 48, पाजिटिव 61 मरीज में 12 एक्टिव मरीज अवशेष है जिनका इलाज जारी है।  

इनसेट-

इलाके में हड़कंप मच, गांव पहुंची स्वास्थ्य टीम व प्रशासन 

डलमऊ(रायबरेली)। मामले की जानकारी लगते ही इलाको में हड़कंप मच गया। वही स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव पहुची डलमऊ समुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी विनोद कुमार चौहान ने बताया कि युवक की जांच रिपोर्ट में कोरोना की पुष्टि हो चुकी है प्राप्त आंकड़ों के अनुसार जिले में कोरोना का यह ग्यारहवां केस है। इधर मौके का जायजा लेने प्रशासन की शाम को पाहो पहुँची और क्षेत्र आसपास के बार्डर को सील करने की प्रक्रिया शुरू हो गयी। डलमऊ में मौके पर एसडीएम सविता यादव और तहसील दार प्रतीक त्रिपाठी मौजूद रहे।

इनसेट-

गाँव मे भी पैर पसार चुका कोरोना,ग्रामीणों में दहशत

-कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद पाहो गांव कोरोना हॉटस्पॉट घोषित

रायबरेली। अब तक कोरोना जैसी वैश्विक महामारी मे लोग अपने को सुरक्षित रखते हुए गांवो मे चैन की नींद सो रहे थे,कि प्रवासी मजदूरो के गांवो मे प्रवेश करने से गाँव के नागरिकों की नींद उड़ गयी है। थाना क्षेत्र के अंतर्गत भगवान बक्सखेड़ा उसके बाद ग्राम पाहो मे कोरोना मरीज की पजिटिव रिपोर्ट आने से क्षेत्र
के नागरिको मे भय व्याप्त हो गया। प्रवासी मजदूरो के आने की सूचना संबन्धित विभाग को दिये जाने के लिए सरकार ने हेल्पलाइन नंबर जारी किया है।

जिलाधिकारी द्वारा सख्त निर्देश भी दिये गए थे कि ग्राम प्रधान व उनके साथ जुड़े जिम्मेदार लोग आने वाले श्रमिकों की निगरानी रखे साथ ही होम क्वारेंटाइन का पालन कराये,लेकिन गाँव स्तर पर वोट की राजनीति के चक्कर मे सूचना देना तो अलग आए हुए प्रवासी मजदूर होम क्वार्नेटाइन न होकर सीधे अपने घरो मे प्रवेश कर गए और यहा तक कि कस्बा क्षेत्र की सड़को पर घूमते देखे गए।

यदि ग्राम प्रधान व उनके साथ लगे जिम्मेदार लोग सख्ती से पेश आए होते तो शायद गाँव मे कोरोना की दहशत न फैलती।यदि समय रहते ग्राम प्रधान से लेकर जिम्मेदार लोगो ने सरकार की गाइडलाइन का पालन न किया तो गांवो से भी कोरोना के मरीज मिलने का सिलसिला जारी रहेगा और ग्राम भगवान बक्सखेड़ा व पाहो गाँव जैसे अनेक गांवो मे कोरोना के मरीज मिलने
से इंकार नहीं किया जा सकता।