गरीबों की मदद के लिए खुला चतुर्वेदी विला का द्वार सैकड़ों गरीबों को मिला आहार

संत कबीर नगर

संतकबीरनगर :- कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से लोगों को बचाने के लिए सरकार ने 21 दिनों का लाॅक डाउन हुआ तो दिहाडी मजदूरों के परिवारों मे दो जून की रोटी के भी लाले पड़ने लगे। ऐसे मे जिले के गरीब परिवारों के लिए भिटहा मे स्थित ‘चतुर्वेदी विला’ के द्वार गरीबों के आहार के लिए खोल दिये गये। समाज मे रचनात्मक कार्यों की बदौलत अपना अलग मुकाम बना चुके सूर्या इण्टरनेशनल एकेडमी के एमडी डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी एवं पूर्व ब्लाक प्रमुख एसआर इण्टरनेशनल एकेडमी के एमडी राकेश चतुर्वेदी की तरफ जिले के अधिकांश गरीब परिवारों की आशा भरी निगाहें टिकी हुई थीं। चतुर्वेदी बन्धुओं ने भी उनके आस की डोर को टूटने से बचाने के लिए पहले तो अपनी टीम को ऐसे परिवारों को चिन्हित करने के लिए लगाया। जिन्हे उनके मदद की सख्त जरूरत है। इस परिवार के अभिन्न अंग सूर्या के व्यवस्थापक बलराम यादव, सेमरियांवा के ब्लाक प्रमुख मुमताज अहमद और समाजसेवी दानिश खान को राहत सामग्री के साथ जिला मुख्यालय से लगायत जिले के उत्तरी क्षेत्र मे रवाना किया। सूर्या के एमडी डा. चतुर्वेदी ने अपने अनुज राकेश चतुर्वेदी के साथ मिलकर भिटहा, गोलहटा, नीबा होरिल, मझौवा एगडंगा सहित दर्जन भर गांवों के सैकड़ों गरीब परिवारों मे राशन सामग्री के साथ ही अन्य दैनिक प्रयोग का सामान पहुंचवाया। डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी ने कहा कि कॅरोना जैसे वैश्विक वायरस से बचाव के साथ साथ गरीब परिवारों के लिए भोजन का इन्तजाम करना भी बेहद जरूरी है। उन्होंने सभी से अपील किया कि लोगों की मदद के लिए सभी सामर्थ्यवान आगे आकर अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें तभी कोरोना और उससे उपजी भूख जैसी इस खतरनाक बीमारियों को काबू मे किया जा सकता है। पूर्व ब्लाक प्रमुख राकेश चतुर्वेदी ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि इस जिले मे किसी को भी भूख से तडपने नही देंगे। गरीबों की मदद करना हमारा कर्तव्य है। उन्होंने समाजिक एकता और सद्भाव को मजबूत बनाने के लिए अपने अपने पडोसियों की मदद के लिए लोगों से अपील किया।