जमाखोरी व दाम बढ़ाकर लेने पर दर्ज होगा मुकदमा

लालगंज(रायबरेली)। नगर में सुबह सवेरे सभी दुकाने खुली तो प्रशासन सख्त हो गया। अधिकारियों की हूटर बजाती गाडि़यां सड़क पर दौड़ी तो फटाफट दुकानों के शटर नीचे गिर गए। हालांकि जरूरी सामानों व सब्जी के दामों में बेतहाशा बढ़ोत्तरी की शिकायतें मिलते ही प्रशासन सख्त नजर आया और उसने किराना व मेडिकल की कुछ दुकाने खुलवाकर लोगों को राहत देने का काम किया।सब्जी व फल की दुकाने खुली रहीं।  उपजिलाधिकारी जीतलाल सैनी, पीसीएस पलाश बंसल, क्षेत्राधिकारी इंद्रपाल सिंह ने नगर में मुख्य मार्गां से लेकर गलियां तक का निरीक्षण किया।

जो भी दुकाने खुली मिली उन्हें बंद कराते हुए लाकडाउन का सख्ती से पालन करने के निर्देश दिए। दोपहर बाद जैसे ही पता चला कि दो चार दुकानों को छोंड़कर किराने की सभी दुकाने बंद होने के चलते सामानों के दाम आसमान छूने लगे हैं। इस पर अधिकारी हरकत में आ गए। तत्काल आपूर्ति निरीक्षक मोबीनुद्दीन व एआरओ सुरेश कुमार ने दुकानो में जाकर रेट लिस्ट चस्पा करने के निर्दैश दिए। कुछ और दुकाने खुलावई गई ताकि लोगों को जरूरी सामानों के लिए परेशान न होना पड़े। 

इन्सेट-

सब्जियों के बढ़े दाम, चेक पोस्ट के बजाय भीड़ में जाकर वसूल रहे मंडी शुल्क 

लालगंज(रायबरेली)। लाकडाउन की आंड़ लेकर सब्जी विक्रेताओं ने आलू, प्याज आदि के दाम बढा दिए। वहीं मंडी शुल्क वसूली में लगे कर्मचारी दामों को नियंत्रित कराने के बजाय दो नंबर गेट पर भीड़ लगाकर राजस्व वसूली में लगे रहे। बुधवार से 21 दिन का लाकडाउन होने की खबर के चलते मंडी समिति में व्यापारियों, किसानों व खरीददारों की जमकर भीड़ हुई।आईपीएस पलाश बंसल ने जाकर भीड़ हटवाई।

बुधवार को सभी सब्जियों के दाम बढ़े मिले। प्याज 150 रूपये, आलू 120 रूपये, लहसुन 100 रूपये, टमाटर 160 रूपये,हरीमटर 150 रूपये, हरीमिर्च 600 रूपये प्रति पांच किलो बिकी। फुटकर बाजार में इससे भी ज्यादा दामों में सब्जियां बेची गई। मंडी के जिम्मेदार भी भीड़ का हिस्सा बने रहे और बजाय गेट नंबर एक पर बनी चेक पोस्ट से शुल्क वसूली के गेट संख्या दो से ही व्यापारियों के बीच जाकर शुल्क वसूली करते रहे।  इसके उलटे मंडी शुल्क वसूली में लगे कर्मचारी इसकी धज्जियां उड़ाने में जुटे हैं ।